आदिवासी सशक्तिकरण

नयी सरकार का बड़ा असर – सरकार बनने के ठीक बाद से लिए गए फैसलों के पीछे की क्या सोच रही और कैसे इनका असर दिखना शुरु हो गया। इन फैसलों ने मुश्किल में फंसे छोटे किसानों, कर्ज़ में दबे किसानों, आदिवासियों, युवाओं के जीवन में तेज़ी से असर दिखाया है।

आर्टिकल्स

Space Speaker Studio

आदिवासी सशक्तिकरण

न्याय और फैसलों का दौर

नयी सरकार का बड़ा असर – सरकार बनने के ठीक बाद से लिए गए फैसलों के पीछे की क्या सोच रही और कैसे इनका असर दिखना शुरु हो गया। इन फैसलों ने मुश्किल में फंसे छोटे किसानों, कर्ज़ में दबे किसानों, आदिवासियों, युवाओं के जीवन में तेज़ी से असर दिखाया है।

आगे पढ़ें
Lunisolar Homestay

आदिवासी सशक्तिकरण

बदलावों का असर कैसा है किसानों पर

कर्ज़माफ़ी से होगा 20 लाख किसानों को फ़ायदा, फ़सलों का सही मूल्य से ले कर कृषि उत्पाद पर आधारित उद्योगों की शुरुआत (लोहंडीगुड़ा, सुकमा, कोंडा गांव।

आगे पढ़ें

लिस्टिकल

छत्तीसगढ़ में पाँच बदलाव - आम आदमी के जीवन में

‘चाह बदलो तो राह बदल जाती है’ छत्तीसगढ़ राज्य में चारों तरफ़ बदलते हालात की यही लहर नज़र आती है। पिछले साल जैसे ही पुरानी सरकार बदली, कर्ज़-माफ़ी के फ़ैसले के साथ नई सरकार ने परिवर्तन और कई नई जन-कल्याणकारी योजनाओं की झड़ी लगा दी। प्रजातंत्र की यही ख़ूबसूरती है जिसमें जनता अपने मत के प्रयोग से शासन और शासक दोनों को ही बदल देती है। आजकल यही बदलाव पूरे राज्य में भी देखने को मिल रहा है।

जैसे ही छत्तीसगढ़ में नई सरकार सत्ता में आई, 2018 में किए गए जन-घोषणा के वायदे के मुताबिक़ उसी दिन अल्पकालीन कृषि-ऋण को माफ़ कर दिया। जिसमें राज्य के 16 लाख 65 हज़ार से ज्य़ादा किसानों पर 6,230 करोड़ से ज्य़ादा का ऋण था, माफ़ करने का निर्णय लिया गया।

अब सवाल है कि किसानों की कृषि-ऋण माफ़ी, किसानों की अधिग्रहित भूमि वापसी, तेंदूपत्ता और वनोपज संग्रहण समर्थन मूल्य में बढ़ोतरी और नयी राज्य सरकार की दूसरी योजनाओं से छत्तीसगढ़ के जनजीवन पर कितना असर पड़ा है और पड़ने वाला है? हमने एक कोशिश की लोगों के जीवन में आने वाले बदलावों का एक अध्यन करने की।

आगे पढ़ें